परी हूं मैं 

कविता



परी हूं मैं पंखों वाली,


नीले गगन में खेलने जाऊंगी ।


चन्दा मामा से बाते करके ,


तारो को दोस्त बनाऊंगी ।।


सारे खिलौने , गुड्डे - गुड़िया


संग अपने मैं ले जाऊंगी ।


चन्दा मामा संग खेलूंगी मै,


और खीर पुडी खाऊंगी।।


 


दोस्त मेरे चमकते तारे,


मै भी संग मिल जाऊंगी ।


परी हूं मैं पंखो वाली ,


नीले गगन में खेलने जाऊंगी।।


 


वांहा कदम का पेड़ है जिसमें ,


मै झुला "झुल" के आऊंगी। 


घुमुंगी मै आसमान सारे ,


मै चिड़ियों से मिलकर आऊंगी।।


 


परी हूं मै पंखों वाली,


नीले गगन में खेलने जाऊंगी।


 


स्वरचित - सरिता लहरे


छत्तीसगढ़


मोबाइल नंबर- 6266873706


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image