परी हूं मैं 

कविता



परी हूं मैं पंखों वाली,


नीले गगन में खेलने जाऊंगी ।


चन्दा मामा से बाते करके ,


तारो को दोस्त बनाऊंगी ।।


सारे खिलौने , गुड्डे - गुड़िया


संग अपने मैं ले जाऊंगी ।


चन्दा मामा संग खेलूंगी मै,


और खीर पुडी खाऊंगी।।


 


दोस्त मेरे चमकते तारे,


मै भी संग मिल जाऊंगी ।


परी हूं मैं पंखो वाली ,


नीले गगन में खेलने जाऊंगी।।


 


वांहा कदम का पेड़ है जिसमें ,


मै झुला "झुल" के आऊंगी। 


घुमुंगी मै आसमान सारे ,


मै चिड़ियों से मिलकर आऊंगी।।


 


परी हूं मै पंखों वाली,


नीले गगन में खेलने जाऊंगी।


 


स्वरचित - सरिता लहरे


छत्तीसगढ़


मोबाइल नंबर- 6266873706


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image