मौन रिश्ते


अब तो मौन हो गये हैं रिश्ते ही सारे,
किसी भी मदद को कौन किसको पुकारे.!


बिना स्वार्थ के कोई आता न नजदीक,
न समझें किसी भी तरह के इशारे..!


उम्मीद की आस करना है बेकार,
छोड़ देंगे साथ लाकर मझधारे..!!


धरती न बदली न आकाश बदला,
बदलें हैं केवल नजर के नजारे..!!


कसमो और वादों की बातें करो मत,
झपकते पलक ही बदलते हैं सारे..!!


पुकारें किसे कोई सगा न किसी का,
सभी लोग रहने लगे हैं किनारे..!!


अर्चना भूषण त्रिपाठी " भावुक "


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image