मौन रिश्ते


अब तो मौन हो गये हैं रिश्ते ही सारे,
किसी भी मदद को कौन किसको पुकारे.!


बिना स्वार्थ के कोई आता न नजदीक,
न समझें किसी भी तरह के इशारे..!


उम्मीद की आस करना है बेकार,
छोड़ देंगे साथ लाकर मझधारे..!!


धरती न बदली न आकाश बदला,
बदलें हैं केवल नजर के नजारे..!!


कसमो और वादों की बातें करो मत,
झपकते पलक ही बदलते हैं सारे..!!


पुकारें किसे कोई सगा न किसी का,
सभी लोग रहने लगे हैं किनारे..!!


अर्चना भूषण त्रिपाठी " भावुक "


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
सफेद दूब-
Image
स्वयं सहायता समूह ग्राम संगठन का गठन
Image
हास्य कविता
Image