माँ गंगे

 



"हिम-खोह में छुपल बा


अनवरत निरन्तर बहता


कल-कल ध्वनि सँग त


उ धरती के माथ चूमता


 


एको बुनी अमृत-जस त


केहू के तबले ना भेंटायी


मन के पवितर बनी ना त


उ लउकी ,आ ललचायी


 


कहल जाला शीव-जटा से


इ प्रवाह त निकसल बा


आ गवे-गवे सम्पूर्ण धरा के


अपना में त समेटले बा


 


जीवनदायिनी मातु इ हवि


सगरे बात इ पसरल बा


हे माँ गंगे,अमृत बरसा द


जीवन पापी इ भइल बा


 


हहरत-घहरत दूध-धार त


स्वर्ग से उतरल आइल बा


हे माँ कर अब दया पुत्र पर


करबद्ध त खाड़ भइल बा


 


पाप-पुण्य ना जानी हमनी


हरहर महादेव बस कही ला


ए जग जननी पतित पावनी


निर्मल काया बस अब करीला,,,,,,


★★★★★★★


डॉ मधुबाला सिन्हा


मोतिहारी


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image