माँ गंगे

 



"हिम-खोह में छुपल बा


अनवरत निरन्तर बहता


कल-कल ध्वनि सँग त


उ धरती के माथ चूमता


 


एको बुनी अमृत-जस त


केहू के तबले ना भेंटायी


मन के पवितर बनी ना त


उ लउकी ,आ ललचायी


 


कहल जाला शीव-जटा से


इ प्रवाह त निकसल बा


आ गवे-गवे सम्पूर्ण धरा के


अपना में त समेटले बा


 


जीवनदायिनी मातु इ हवि


सगरे बात इ पसरल बा


हे माँ गंगे,अमृत बरसा द


जीवन पापी इ भइल बा


 


हहरत-घहरत दूध-धार त


स्वर्ग से उतरल आइल बा


हे माँ कर अब दया पुत्र पर


करबद्ध त खाड़ भइल बा


 


पाप-पुण्य ना जानी हमनी


हरहर महादेव बस कही ला


ए जग जननी पतित पावनी


निर्मल काया बस अब करीला,,,,,,


★★★★★★★


डॉ मधुबाला सिन्हा


मोतिहारी


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image