खुशियों की महक से बनती है ज़िंदगी

खुशियों की महक से बनती है ज़िंदगी 


सपनों की कलम से लिखनी ज़िंदगी 


कहना है तुझसे बस इतना ज़िंदगी 


हर मोड़ पर तू संभलना ज़िंदगी 


जीत आसानी से मिले तो क्या ज़िंदगी 


कभी-कभी दुःख भी सहना ज़िंदगी 


पर आखिर में तो है हँसना ज़िंदगी 


काँटों के बीच में है रहना ज़िंदगी 


पर गुलाबों की तरह है महकना ज़िंदगी 


आखिर में है ये कहना ज़िंदगी 


कि हर वक़्त यूँ जियो ज़िंदगी 


कि अगले पल फिर मिले या ना मिले ज़िंदगी 


खुशियों की महक से बनती है ज़िंदगी 


सपनों की कलम से है लिखनी ज़िंदगी..।। 


डाॅ० अनीता शाही सिंह 


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image