हक़ की ख़ातिर ख़ुदी से लड़ा कीजिये


दोस्त खुद से मोहब्बत किया कीजिये ।


 


जिंदगी को न यूँ ,बददुआ, कीजिये ।


 


बेख़ुदी में क़दम डगमगा गर गये।


 


फिर से उठके सम्भलकर चला कीजिये ।


 


जिंदगी खौफ़ में ना गुज़र जाये यूँ ।


 


हक़ की ख़ातिर ख़ुदी से लड़ा कीजिये ।


 


खुद से रूठो नही ख़ुद को कोसों नही ।


 


खुद से नफ़रत कभी ना किया कीजिये ।


 


जिंदगी है हंसीं है ये दुनिया हंसीं ।


 


इसको जन्नत के माफ़िक जिया कीजिये ।


 


हर किसी के जनम में है मक़सद छुपा ।


 


फ़र्ज पूरे सनम बावफ़ा कीजिये ।


 


नाम रोशन रहे जिससे माँ बाप का।


 


काम ऐसे हमेशा किया कीजिये ।


 


ज़िन्दगी इक डगर है गुलों खार की ।


 


,सुष ,मगर इसको जी भर जिया कीजिये ।


 


सुषमा दीक्षित शुक्ला


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image