चाय


वही चाय की पुरानी दुकान,


आज भी उसी जगह पर है!


वही मिट्टी का कुल्हड़,


अपनी पुरानी बेंच के साथ,


वही चाय वाले काका..!


और उनकी वही पुरानी चम्मच,


जिसकी खट-खट कीआवाज ,


दूर दूर सुनाई देती है।


जैसे पहले भी मिलती थी,वही,


एक फीकी वाली चाय,


और दूसरी मीठी वाली भी चाय..!


पर मालूम नही ,


स्वाद जैसे बदल गया हो.!


सब तो जस की तस है,


मगर चाय में ,


वो बात क्यों नहीं है ?


शायद तुम्हारी सोच,


और एहसास में फर्क है ..!


कोई कमी है तुम्हारे भीतर,


इसलिए मिट्टी वाली चाय,


फीकी लगती है..!


रोजाना की तरह मैं,


दो कप चाय ,


आज भी मँगवाती हूँ!


इस उम्मीद के साथ,


कि तुम जरूर पियोगे


क्या सोच रहे हो ?


तुम....आओगे जरूर...है...ना..!


©®प्रज्ञा मिश्रा


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image