ऐतिहासिक पुस्तक है 'आजादी के लड़ाई आ जुझारू भोजपुरिया'


प्रख्यात साहित्यकार डॉ. अर्जुन तिवारी किसी परिचय के मोहताज़ नहीं हैं, और ना ही उनका साहित्यिक अवदान। भोजपुरी साहित्य को समृद्ध करने वालों में उनका  नाम बड़े गर्व से लिया जाता है। भोजपुरी साहित्य का इतिहास, भोजपुरी शब्दकोश आदि उनकी अनेक पुस्तकें चर्चित हैं। सर्व भाषा ट्रस्ट प्रकाशन से उनकी नई पुस्तक 'आजादी के लड़ाई आ जुझारू भोजपुरिया' आई है।


डॉ. अर्जुन तिवारी की सदयः प्रकाशित पुस्तक 'आजादी के लड़ाई आ जुझारू भोजपुरिया' में भोजपुरी मिट्टी के रणबाँकुरों और स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों की समृद्ध चर्चा तो है ही, पुस्तक में भोजपुरिया प्रवृत्ति की भी विशद व्याख्या की गई है। पुस्तक में अनेक दस्तावेज़ भी प्रस्तुत किए गए हैं जो शोधकर्ताओं के साथ ही भोजपुरी के लिए भी बहुमूल्य हैं।
'आजादी के लड़ाई आ जुझारू भोजपुरिया' पुस्तक बिक्री के लिए अमेज़न, फ्लिपकार्ट के अतिरिक्त ऑनलाइन डिमांड पर भी उपलब्ध है। 224 पृष्ठों की इस पेपरबैक पुस्तक का मूल्य 225 ₹ है। इसे सर्व भाषा ट्रस्ट, नई दिल्ली ने प्रकाशित किया है। यह भोजपुरी प्रेमियों के लिए एक सौगात है।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image