विश्वास

विश्वास रखें आत्मबल  पर सदा,
औ स्वेच्छानुसार  करें  हर  काम,
निष्फल - अविजेय न होंगे कभी,
चाहे   कितना हो  संघर्ष - संग्राम,
चाहे   कितना  हो संघर्ष - संग्राम,
अंततः  जीत   अपनी  ही   होगी,
कहते 'कमलाकर' हैं विश्वास करें,
जीवनांत   कोई   कमी न होगी।।
  
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
हँस कर विदा मुझे करना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं यमुनानगर हरियाणा से कवियत्री सीमा कौशल
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image