विश्वास

विश्वास रखें आत्मबल  पर सदा,
औ स्वेच्छानुसार  करें  हर  काम,
निष्फल - अविजेय न होंगे कभी,
चाहे   कितना हो  संघर्ष - संग्राम,
चाहे   कितना  हो संघर्ष - संग्राम,
अंततः  जीत   अपनी  ही   होगी,
कहते 'कमलाकर' हैं विश्वास करें,
जीवनांत   कोई   कमी न होगी।।
  
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image