सुरमयी शाम सुहानी


सुरमयी  शाम  सुहानी सी
मस्ती में मस्त मस्तानी सी


शीत  हवाएं  चल  रहीं  हैंं
तन में आग ज़िस्मानी सी


यह जो तुषार जम रही है
रूह जम गई  बर्फ़ानी सी


मय सा नशा भी है छाया
रंग  दिखाए निशानी  सी


दहकता गौरी का यौवन
प्रेम  जगाए  रुहानी  सी


आँखे  में  खुमारी छायी
बात  बताए  जुबानी सी


सुखविन्द्र हुआ दीवाना
बन जाएगी कहानी सी
*****************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image