शिव स्मरण


नाग, धारि,  काम आरि  ओम हो
नील लोहित शिव अव्यग्र व्योम हो
नील कंठ अमरनाथ शरण दें
सोमनाथ आदिनाथ तरण दें
आशुतोष चारुविक्रम नाथ हो
वामदेव शूल पाणि तात हो
सर्वज्ञ जगत के गुरू पशुपति  हो
सात्त्विक अष्टमूर्ति अमर यति हो
रूप कोटि-कोटि नाम अनन्त हैं
सदा शिवम पंचवक्त्र भनन्त हैं
महाकाल श्रीकण्ठ भक्तवत्सल हो
वामदेव  गंगधारि  सुफल  हो
राम जपत  शांत रहत शिव सदा
भस्मधारि त्रिपुर आरि शुभ सदा


🌻स्वरचित : 🌻सुनीता द्विवेदी 🌻
🌻कानपुर उत्तरप्रदेश🌻


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image