संत


संत    वही     है    जो    सबको,
सहज  -  सरल, सन्मार्ग दिखाये,
शुचिता रखे  निज तन - मन की,
औ  हरिकथा,  हरिभजन सुनाये,
हरिकथा,     हरिभजन    सुनाये,
अघ  -   अज्ञान,  समूल  मिटाये,
कहते  'कमलाकर'  हैं  संत सदा,
ममता,मानवता का पाठ पढ़ाये।।
     
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image