समय से दो-टूक


जब समय गुजरा लिये पगडंडियाँ।
ताड़ ऊँचे और खाली हंडियाँ।।


हंडियों की तलछटी में मौन था,
पायवट पर प्रश्न जैसे गौण था।
ग़र्द के गुब्बार जड़ में थे भरे।
छाँव की सिमटी-सिकुड़ती मंडियाँ।१।


छोड़ कर आँखें वहीं उस झाड़ पर,
ऊँघती परछाईं का मन ताड़ कर।
ऊन हर जड़ से उतारा मूँड़ कर,
ग़र्द से बुन लीं हजारों ठंडियाँ।२।


ले अंगीठी हाँड़ लड़ते लाड़ से,
मुख किलकते एक कलछुल माड़ से।
लाल चूल्हा राख उगले रात-दिन,
शाम ढोती हर सुबह कुछ कंडियाँ।३।


पाँव सूखा फट बिवाई हो मरा,
हर क़दम इक कार्यवाही हो सरा।
बूँद छींटे बन हवा में घुल गयी,
हँस रही हैं तीन रंगी झंडियाँ।४।


- विनय विक्रम सिंह
#मनकही


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image