सहारों का उजाला ''

सहारों का उजाला हो कितना


ख़ुशिओं तक ही वो टिकती है


मजबूरियों के फिर अँधेरे में


हिम्मत का शोला दहकता है !


मंजिल हो प्यारी जिसकी


वो राहों में न कभी अटकता है


भूल जाएं जो लक्ष्य कभी


वो सारा जीवन भटकता है !


हैं गर्म हवाओं का डर उसको


जो मख़मल में ही पलटा है


उसे अंगारों का भय क्या होगा


जो काँटों पर ही चलता हैं !


शोभा खरे ''


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image