साँवरे


सोच कर तुझको 
रोती रही रात भर
दामन अश्कों से 
धोती रही रात भर
आंखें मेरी टपकती रही 
हर घड़ी
तिनका इसमें 
चुभोती रही रात भर
अपने भी दर्द मेरा 
समझ ना सके
अब गिला क्या करें 
गैर तो गैर थे
जितने मुंह उतनी बातें 
सही सब की सब
मैं तड़पती रही 
बिजलियों की तरह
नाही समझा किसी ने 
किसी भी तरह
चुक गए शब्द सब 
जुगनुओं की तरह
बादल गरजा तो सीने में 
धड़का कोई
बिजली चमकी तो छवियाँ
उगीं,गुम हुईं
दुख भी चमका मेरा 
रौशनी की तरह


सांवरे छब दिखा के 
हुआ गुम कहाँ
मन में भड़की हुई है
लगन-राग अब
तन में सुलगी हुई है
अगन-राग अब
बीच में आस का दीप 
है जल रहा
आस का दीप
बुझने ना पाये कभी
नाही मद्धिम हो ये
प्यार की रौशनी
साँवरे!
               ◆◆◆
©डॉ मधुबाला सिन्हा
वाराणसी


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image