साहित्यिक पंडा नामा:८२२

 



भूपेन्द्र दीक्षित
गाँवन गाँवन अलख जगावौ।
बिरवा लगावौ बिरवा  लगावौ ।
पालौ पोसौ और बढावौ।
बिरवा  लगावौ  बिरवा  लगावौ ।
भुइं का हरियर चूरन ओढावौ।
बिरवा  लगावौ  बिरवा  लगावौ ।
द्वारे द्वारेआंगन आंगन।
 ख्यातनख्यातन म्यांड़न  म्यांड़न ।
अलख जगावौ  बिरवा  लगावौ ।
पर्यावरण की सुरक्षा हमारी जिम्मेदारी है। वर्तमान युग की समस्त समस्याओं की जड़ है पर्यावरण की उपेक्षा।अभी समय है सब चेत जाएं।समय सबको बार बार मौका नहीं देता।


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image