प्रेम के दोहे

 


मेघ  गरजते  गगन में , बूँद गिरे रसधार
प्यासा मन है बावरा,आ जाओ घर द्वार


बादल  छाये गगन में , काली घटा छाई
अंग  प्रत्यंग जल उठे , प्रेम अग्न लगाई


बदली बरसी गगन से,अवनि प्यास बुझाई
पपीहे सा तन प्यासा , मन में मस्ती छाई


शीत  आर्द्र  हवा चली , प्रेम भाव जलाए
तन बदन है सिहर उठा,कौन भला बुझाए


सुखविंद्र  खड़ा  राह में ,.बाजुएँ  फैलाए
आ जाओ आलिंगन में,मन शांत हो जाए


-सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेड़ी राओ वाली (कैथल)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image