निरापद


निरापद   कहाँ   रहा  है  यह   जग,
आयेदिन    घटनाएँ    होती   रहती,
कहीं बाढ़- सूखा तो कहीं महामारी,
है कहीं भूकंप से धरा हिलती रहती,
है कहीं भूकंप से धरा हिलती रहती,
प्रकृति   कृति  है  कितनी विलक्षण,
कहते 'कमलाकर' हैं कितना भी हो,
प्रभु  ही   देते हैं  सबको  संरक्षण।।
    
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image