नारी


 नारी से ही दुनिया सारी है, 
 नारी ही सब पर भारी है।
 जो ना समझे नारी का मोल,
 खोलते देवता नर्क के डोर।


 बिना नारी के नर है अधूरा,
 क्या नर बिना नारी है पूरी?
 दोनों ही सिक्के के पहलू हैं,
 दुनिया दोनों से ही चलती है।


 नारी ममता की नहीं परमात्मा की मूरत है,
 जिसके एक नहीं अनेक सूरत है। 


प्रियंका चौरसिया 
कोलकाता


Popular posts
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
गीता सार
मैं मजदूर हूँ
Image