ना जाने कब ये हालात बदलेंगे

ना जाने कब ये हालात बदलेंगे,
गरीबों के प्रति जज़्बात बदलेंगे।

हिकारत की नजरों से देखते हैं,
ना जाने कब सवालात बदलेंगे।

पूंजीवाद को बढ़ावा मिल रहा,
कब इनके भी दिन रात बदलेंगे।

बचपन जल रहा है इस आग में,
कौन जीत में इनकी मात बदलेंगे।

भरपेट खाना नहीं मिल पाता है,
कैसे इनके भी ख्यालात बदलेंगे।

सुलक्षणा उठा बीड़ा बदलाव का,
शिक्षा से इनकी औकात बदलेंगे।

©® डॉ सुलक्षणा 


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image