मृत्यु से


बड़ी दबंग हो 
कोई नियम नहीं मानती 
जहां हो पहुंच जाती हो
सीमाएं नहीं जानती
इस देश उस देश
इस गांव उस गांव
रोकती तुम्हें ना दुख की
धूप न सुख की छांव
ना देखती हो दिन रात
न छोटा बड़ा पहचानती हो
पहुंच जाती हो सबके पास 
सबसे जबरन संबंध ठानती हो 
मृत्यु 
मृत्यु तुम साथ ही जन्मती हो 
जीवन भर साथ ही चलती हो 
आखिर छुड़वा कर दुनिया सारी 
प्राणों के साथ ही निकलती हो 
नींद आ जाए अगरचे मुझे
पर तुम कभी नहीं सोती 
मृत्यु तुम सच्ची महबूबा हो 
कभी बेवफा नहीं होती


स्वरचित


 सुनीता द्विवेदी 
कानपुर उत्तरप्रदेश


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image