मन



मन तेरे रूप हजार 
तुझसे कौन पाए पार
इस पल जोगी तू बैरागी 
उस पल नित नए श्रंगार
बन सयाना कभी सोचे
कभी बच्चे सा व्यवहार
मन की नाव जो बैठा डूबा
मन किसको ले जाए पार
तन तो माटी का पुतला है
मन का ही सब व्यापार
आत्मा तेरी अविकारी सदा से
मन में पलते सभी विकार
मन को बांधे तो बंधन छूटेंगे
होगी नैया भव से पार
स्वरचित :🔥सुनीता द्विवेदी🔥
कानपुर उत्तरप्रदेश
२५/०६/२०२०


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image