मन


 मन बड़ा ही चंचल है,
 फिर भी सुंदर निर्मल है।
 जिसने किया मन को वश में,
 वही रहा श्रेष्ठ इस जग में।


 मन की गति का कोई मेल नहीं,
 इसे समझ लेना आसान कोई खेल नहीं।
 मन, मन में, मन की बात बताया,
 जितना सोचा था उससे कहीं ज्यादा पाया।


 मन को दोषी बताने वाले,
 एक नहीं दस हैं ऐसी वाणी वाले।
 जिसने मन को, मन में ठान लिया,
 संसार में उसी को सफल मान लिया।


 प्रियंका चौरसिया
 कोलकता


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image