मारो मत अपनों पर कलम की मार

 



सुनो! रिश्तों में जब आती है दरार,
तब घर में खड़ी हो जाती है दीवार।
पल भर में अपने हो जाते हैं बेगाने,
और बेगानों पर आने लगता है प्यार।


कुछ नहीं सूझता बुद्धि रहती है खराब,
छोटी छोटी बातों पर होती है तकरार।
तमाशा देखकर हँसते हैं दुनिया वाले,
सरेआम रिश्ते होने लगते हैं शर्मसार।


फिर विश्वास उठ जाता है एक दूजे से,
बनाये से भी नहीं बन पाता है ऐतबार।
दुश्मन उठाते हैं फायदा, लेते हैं मजे,
क्रोधवश कर नहीं पाते हैं हम विचार।


"सुलक्षणा" नफ़रत को मत बढ़ाओ,
मीठा बोला, करो प्रेम रस की बौछार।
क्रोधाग्नि को शांत करो चिंतन करके,
मारो मत अपनों पर कलम की मार।


©® डॉ सुलक्षणा


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image