लाजो लजा जाला....


लाजो लजा जाला.., इनका बेशर्मी से... 


नाही कवनो लूर ढंग नहीं संस्कार बा
सुनस ना सुबात  इनकर गज़बे बिचार बा
मन कुम्हिला जाला... इनका बेशर्मी से... 


सास के बा सांस रूकल ससुर के कापार फुटल, 
इनकाला देख सगरी लफुवन के भीड़ जूटल
बात कहते रुन्हा जाला.., इनका बेशर्मी से.. 


नाही कवनो लाज, हाया, धरम ना मोह दाया
घर परिवार के इ तूरी देली सभ पाया
देखते बुझा जाला.. इनका बेशर्मी से.. 
लाजो लजा जाला... 


कहेलें बिजेंदर सांची केहु के ना मान बांची
 इज्जत उघारी सबके गारी देले नाची-नाची
डरते-डरते काहा जाला.. इनका बेशर्मी से.. 


लाजो लजा जाला.. इनका बेशर्मी से... 


बिजेंद्र कुमार तिवारी
बिजेंदर बाबू
गैरत पुर, मांझी
सारन, बिहार
मोबाइल नंबर:-7250299200


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image