कोरा काग़ज़


दिल  के  कोरे   काग़ज़  पे,
छपती   गईं  चढ़ते   उतरते ,
भावों की  रंगीली भंगिमाएँ 
दिन महीने  साल दर साल,
अंकित  होते  गये  हर भाव,
निर्विकार,निर्विरोध,निर्बाध!
क्योंकि था  वह हमारा हुनर,
मेरा प्रेम, थे मेरे अपने शब्द ,
सुसज्जित शब्दों को टंकित 
कर गुंफन करने  की  कला,
सब की स्वामिनी मैं  ही थी!
था नहीं  किसी का भी यहाँ 
कोई अख़्तियार या  प्रवेश!
ह्रदय की अंत: भित्तियों पर
खुदी  हमारी  इन हुनरों  पर
खुदा भी नहीं रखते थे मंशा,
मुझे   मुक्त  करने  की   इन,
अद्भुत, विलक्षण  ऊर्जा  से !
छपते   गये  भाव  इन्द्रधनुषी,
बन गयी पूरी की पूरी डायरी,
लगा, मैं   ही   गुम   हो   गई,
खुदे  अक्षरों  के  बीच कहीं !
धीरे-धीरे रिसने लगा प्रेमरस,
अंत:  भित्तियों    का   रिसाव,
बहता हुआ आ गया सतह पर!
अंकित  शब्दों  की  चमक भी,
धीरे-धीरे  पड़ने  लगे  मद्धिम...
फिर ये क्या..? खुदे  शब्द ही
सारे बह गये..! क्या स्याही ही 
कच्ची थी?....या  अंत:करण
की  भित्ति स्याही योग्य न थी?
या बन गया था प्रेमरस,मवाद?
रह गया दिल  कोरा ही कोरा,
हुनर हो गई बेमानी, रह गया,
कोरा काग़ज़ कोरा ही......


स्वरचित रचित 
रंजना बरियार


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image