कजरिया


**********************


मन हल चल मचावे उमिरिया।
तोरि आँखि में लागल कजरिया।


निंद आवे ना रात भर जगावे,
कारि कजरारि आँखि कजरिया।।


मन करें देखि,हरदम निरेखीं,
बड़ी मतवारि तोरि सुरतिया।।


मन भावे जवन मूर्ति बनाइ,
राँखि प्रेमनगर हिया जियरिया।।


प्यार पनकि धरे लागि मोजर,
मन मचले,हहरे ला छतिया।।


ए राह में ना प्रीत गीत मिली,
खालि दुनियां दुखवा दरदिया।।


         ©️®️
  गणपति सिंह गीत
     छपरा, बिहार


Popular posts
सफेद दूब-
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
गीता सार
मैं मजदूर हूँ
Image