काफिला तो चले


तुम चलो तुम्हारे संग हौसला तो चले।
मैं अगर थक गया काफिला तो चले।


चाँद सितारों से भरा हो बागबां तेरा,
साथ आँगन में खुशियों की धूप खिले।


भरा हो दामन दोस्त चाँदनी से तेरा,
सारे अरमानों की धूम से बारात चले ।


गम रहे कोसों दूर जिन्दगी से ऐ दोस्त,
महफिलें सजती रहें ऐसा गुलबहार चले।


तुम पहुंचो उस ऊंचाई तक जहाँ पर,
संग तेरे पीछे सारा हिंदुस्तान चले।


तुम चलो तुम्हारे संग हौसला तो चले।
मैं अगर थक गया काफिला तो चले।


अर्चना भूषण त्रिपाठी,"भावुक'"


मुम्बई


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
सफेद दूब-
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
हार्दिक शुभकामनाएं
Image