जिंदगी


"तुम्हें भूल जाऊँ यह
मुमकिन नहीं है
कि जिंदगी तुमपर ही
आ कर है ठहरी

जिधर रुख करूँ मैं 
हर शय में तुम हो
कि जिंदगी तुमसे और
तुम जिंदगी हो
कटती नहीं तुम बिन
अब कोई रातें
कि नजर घूमाऊँ तो
हर लम्स तुम हो

कहाँ जा रहे हो तुम
मुझे साथ ले लो
कदम जो उठाऊँ तो
बाँहों में ले लो
तुम बिन अधूरी अब
जीवन की राहें
कि चले आओ तुम बिन
कटती न रातें

मेरे मन के बगिया हो
मेरे जीवन नईया
आकर करो पूर्ण अब
मेरे खेवइया
नदी की लहर जैसे
उठती रवानी
चले आओ अब तुम बिन
न कटे जिंदगानी

चले आओ अब तुम बिन
न कटे जिंदगानी
तुम्हें भूल जाऊँ
यह मुमकिन नहीं है
कि जिंदगी तुम पर हीं
आकर है ठहरी,,,,,,
   *****

©डॉ मधुबाला सिन्हा
वाराणसी


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image