जिंदगी


"तुम्हें भूल जाऊँ यह
मुमकिन नहीं है
कि जिंदगी तुमपर ही
आ कर है ठहरी

जिधर रुख करूँ मैं 
हर शय में तुम हो
कि जिंदगी तुमसे और
तुम जिंदगी हो
कटती नहीं तुम बिन
अब कोई रातें
कि नजर घूमाऊँ तो
हर लम्स तुम हो

कहाँ जा रहे हो तुम
मुझे साथ ले लो
कदम जो उठाऊँ तो
बाँहों में ले लो
तुम बिन अधूरी अब
जीवन की राहें
कि चले आओ तुम बिन
कटती न रातें

मेरे मन के बगिया हो
मेरे जीवन नईया
आकर करो पूर्ण अब
मेरे खेवइया
नदी की लहर जैसे
उठती रवानी
चले आओ अब तुम बिन
न कटे जिंदगानी

चले आओ अब तुम बिन
न कटे जिंदगानी
तुम्हें भूल जाऊँ
यह मुमकिन नहीं है
कि जिंदगी तुम पर हीं
आकर है ठहरी,,,,,,
   *****

©डॉ मधुबाला सिन्हा
वाराणसी


Popular posts
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
अंजु दास गीतांजलि की ---5 ग़ज़लें
Image
सफेद दूब-
Image
नारी शक्ति का हुआ सम्मान....भाजपा जिला अध्यक्ष
Image