हर दिल घायल है


एक तरस
जो ख्वाबों में जीकर बर्बाद किये वक्त
अनजान थे कितने
जिंदगी की इस उठा-पटक से


या एक घृणा
उस घटना के लिए
जब हुए थे शर्मसार
'मैं कितना बेवकूफ़ था', सोच सिर पटकते हो


या एक बेबसी
ख्वाहिशों को मारने कि
कभी अपनों की खुशियों के लिए
तो कभी जिम्मेदारियों के बोझ तले


या एक खौफ़ 
कोई घिनौनी बात के लिए 
जो अगर जान जायें लोग
तो मुँह दिखाने लायक भी न रहो


या एक तड़प
जब सोचते हो
अपने मरते सपनों के बारे में
बंद, अंधेरे कमरे में, बेहोश-सा पड़े 


कभी न कभी
एक आग होती है हर सीने में
ये जो घाव हैं, उसकी ही निशानी है
ये लिखी विषाद, हर दिल की कहानी है।
●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●●
स्वरचित
प्रभात 'प्रभात'
औरंगाबाद, बिहार


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image