गुरु ज्ञान का आहार दे


 प्रलय भी  निर्माण भी,
हैं गोद जिसकी पल रहे ।


शिक्षक  प्रणेता राष्ट्र का ,
कर्तव्य पर यदि दृढ़  रहे ।


यदि विमुख है गुरु धर्म से ,
तो घोर पातक  पात्र  है ।


पर व्यर्थ अपमानित हुआ,
 तो  पतन की  शुरुआत है ।


ज्यौं  पिंड मिट्टी का उठा,
 बर्तन बना  कुम्हार दे।


 त्यौं  बीज रूपी  शिष्य को,
 गुरु  ज्ञान का आहार दे।


गोविंद से भी प्रथम क्यों ,
गुरु वन्दना का नियम है ।


गुरु दिखाता मार्ग प्रभु का ,
सब  दूर  करता भरम है ।


 सुषमा दिक्षित शुक्ला


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image