जाज्वल्यमान

माँ!   भारती  की  अनंत अनुकंपा से,
है जीवन होता दीप्त  - जाज्वल्यमान,
संदीपन  - उद्दीपन  है होता उत्तरोत्तर,
औ मानव होता निष्णात  -  बुद्धिमान,
मानव    होता   निष्णात  -  बुद्धिमान,
है   यश - कीर्ति  होती  जीवन, जग में,
कहते 'कमलाकर' हैं  जाज्वल्यमान से,
है शुद्धता - शुचिता  रहती अंतरंग में।।
    
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image