जाज्वल्यमान

माँ!   भारती  की  अनंत अनुकंपा से,
है जीवन होता दीप्त  - जाज्वल्यमान,
संदीपन  - उद्दीपन  है होता उत्तरोत्तर,
औ मानव होता निष्णात  -  बुद्धिमान,
मानव    होता   निष्णात  -  बुद्धिमान,
है   यश - कीर्ति  होती  जीवन, जग में,
कहते 'कमलाकर' हैं  जाज्वल्यमान से,
है शुद्धता - शुचिता  रहती अंतरंग में।।
    
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image