डाक्टर साहब....

मानवता-
व्याप्त जिसके रग रग में
धैर्य और संयम का
जिसमें है प़ाऱावार 
कर देता स्वयं के जीवन का उत्स़र्ग़
मऩ में है सदैव निश्छल समर्पण -भ़ाव 
नहीं है उन सम जगत् में  कोई महान् 
ऊंच-नीच में जो न करें विभेद
'जाति-धर्म' से करता सतत् परहेज 
अदम्य साहस का ओढ़कर कवच
कर्म - वेदी पर कर देता अपने 
अरमानों का बलिदान 
नि: स्वार्थ भाव से जो सेवा कर
बचायें सर्वदा ही सबों के प्राण
वही है 'धरती का भगवान '
जिसे न खुद के दर्द का है एहसास 
और न है खुद के आराम की परवाह 
बस, जिन्दगी को अपने 
कर दिया आहूत वतन के नाम 
उन विभूतियों को है कोटि-कोटि प्रणाम
जो  है आन-बान-शान 
और भारत मां का अभिमान 
वो और नहीं है कोई 'डाक्टर- साहब'
उसी का नाम  ।


स्वरचित मौलिक रचना
राजीव भारती
भिवानी हरियाणा


Popular posts
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं लखीमपुर से कवि गोविंद कुमार गुप्ता
Image
सफेद दूब-
Image
शिव स्तुति
Image