डाक्टर साहब....

मानवता-
व्याप्त जिसके रग रग में
धैर्य और संयम का
जिसमें है प़ाऱावार 
कर देता स्वयं के जीवन का उत्स़र्ग़
मऩ में है सदैव निश्छल समर्पण -भ़ाव 
नहीं है उन सम जगत् में  कोई महान् 
ऊंच-नीच में जो न करें विभेद
'जाति-धर्म' से करता सतत् परहेज 
अदम्य साहस का ओढ़कर कवच
कर्म - वेदी पर कर देता अपने 
अरमानों का बलिदान 
नि: स्वार्थ भाव से जो सेवा कर
बचायें सर्वदा ही सबों के प्राण
वही है 'धरती का भगवान '
जिसे न खुद के दर्द का है एहसास 
और न है खुद के आराम की परवाह 
बस, जिन्दगी को अपने 
कर दिया आहूत वतन के नाम 
उन विभूतियों को है कोटि-कोटि प्रणाम
जो  है आन-बान-शान 
और भारत मां का अभिमान 
वो और नहीं है कोई 'डाक्टर- साहब'
उसी का नाम  ।


स्वरचित मौलिक रचना
राजीव भारती
भिवानी हरियाणा


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
दि ग्राम टुडे न्यूज पोर्टल पर लाइव हैं अनिल कुमार दुबे "अंशु"
Image
भैया भाभी को परिणय सूत्र बंधन दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image