अपने मन के मंदिरवा बनाई लिहलीं


अस मन जनलीं
कि भोले बानी भीतरां


बनाई लिहलीं
अपने मन के मंदिरवा बनाई लिहलीं।


पियलें गरल भोले
होइके सरल हो


जताई लेहलीं
अपने भोले जी से नेहिया जताई लिहलीं।


मन रहिहें जो कांच
एहवां टिकिहें न सांच


तपाई लेहलीं
अपने भोले जी के जोग में तपाई लिहलीं।



नाहीं हे अभाव में
नाहीं हे प्रभाव में


उतारि लेहलीं
अपना भोले के स्वभाव में उतारि लेहलीं।


करम क वेग से
धरम क डेग से


पुकारि लेहलीं
अपना भोले जी के मन से पुकारि लेहलीं।


        #आकृतिविज्ञा
#निर्गुणसगुणहरिहरशिवकजरी
#व्यष्टिसमष्टि


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image