ये पूर्वांचल की नारी है

 


आग पीती हैं आह भरती हैं 
ये पूर्वांचल की नारी है
जहाँ पुरुषों से ज्यादा अत्याचार
नारी ही नारी पर करती है.. 


आभूषणों की डाल कर सांकल
पांव में पायल की बेंडिया पहनाती 
नथ से नाथ कर उसे 
घूंघट की आड में छुपाती हैं 
कभी दहेज कभी उपहार के नाम पर
दुल्हन दहेज़ की बेदी पर चढती है...


वो नारी जिसका शरीर ही नहीं 
मन भी तुम्हारा बंदी है
दिख जाती है कहीं भी 
घरों में बेतरतीब या बाहर सजी संवरी
जीना बहुत मुश्किल है कहती 
जीवन के रंगमंच पर जीने का स्वांग भरती है...


असभ्य बर्बर व्यवहार को
आंसुओं से सिंचित करती है 
थोड़े सुःखों की चाह में 
यातना के पलों को भुला देती है 
बर्तनों की कालिख भरी हथेली को
तीज त्यौहार पर मेंहदी से छुपाती है...


    एकता उपाध्याय


गोरखपुर


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image