वो जब याद आये...


कुछ इस तरहा वो
याद आ जाते है
स्याह रात को 
चाँद कर जाते है


कुछ इस तरहा 
निगाहों में 
वो कहीं बस जाते है 
बरबस आँखों से
समुन्दर बह जाती है 


कुछ इस तरहा शोख़  
मोहब्बत है उनकी
वो सर्द मौसम को 
तपिश कर जाते है ...


अपनी दुआओं की 
जागीर मे 
मुझे समेट लेते है
वो मेरा 
मन्नत का धागा हो जाते है ...


कुछ इस तरहा वो 
याद आ जाते है...
स्याह रात को
चाँद कर जाते है ...


मनोरमा सिंह


 


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image