तू मुझमे अभी जिंदा है

 



तू  मुझमें अभी जिंदा है,
तू  मुझमे अभी बाकी है ।


ये  तेरा ही तो  साया  है ,
जो अब  भी मेरा साथी है।


ये तेरा ही तो जलवा है ,
जो  मुख पे मेरे रहता है।


तू  अपनेपन की  बातें,
अब भी तो मुझसे कहता है।


तू ही तो मेरा प्रियतम है ,
मैं  तेरी  वो  कहानी  हूँ।


तू जिसका सुन्दर राजा है,
मैं  तेरी प्यारी रानी हूँ ।


मैं  लम्हा  लम्हा तकती हूँ,
वो  राहें  जब तू  आयेगा ।


कब  मेरा  हाथ पकड़ तू ,
सँग अपने लेकर जायेगा ।


 मैं  कैसे  जीती  सजना ,
ये  देखे  तू भी  आकर ।


दम  घुटता  मेरा  हर दम ,
क्यूँ खोया  ,तुझको पाकर ।


सुन तेरे कारण  सजना 
मैं  तुझसे  दूर  टिकी हूँ ।


तेरा  वो  प्यार   निभाने ,
दुनिया  मे अभी  रुकी हू


सुषमा दीक्षित शुक्ला


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image