तन्हाई


तन्हाई से होती हैं मुलाकातें
जब मेरे संग रोती हैं रातें 


भूली बिसर रही थीं जो
वो दिल को कुरेदती हैं बातें


सूखी पड़ी मेरी दिल की ज़मीं जो
उसे भिगोती हैं तन्हाई की बरसातें


चरागे दिल करे रोशन तन्हाई से भरी रातें
न बुझती हैं अश्कों से प्यासी हैं वो रातें


सुकून देता है मेरे दिल को ये तन्हाई का आलम
मतलब भरे हुजूम में मैंने करनी नहीं बातें


अतुल तन्हाई का मेला लगता हर इक रात
रह-रह के याद आए दिल की हर इक बात


गम-ए-तन्हाई 'अतुल' तक़्सीम न करना
अहद-ओ-पैमाँ टूट जाते हैं एतिबार न करना 
@अतुल पाठक
जनपद हाथरस(उ.प्र.)
मोब-7253099710


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image