स्वारथ के सब वशी भूत

 



मतलब का है सब संसार
नहीं है इसका पारावार
तृष्णा है मृगमरीचिका है 
इस पर टिका है,सब आधार


कोई बिना मतलब के ,पानी तक नपूछें
स्वारथ के सब वशी भूत
आगे कुछ भी न सूझे 
मतलब से ही चलता 
इस जग का कारोबार 


गर हो,मतलब,गधे को,
बाप बना लें ,मतलब के 
खातिर,पैरों को सिर पे लगा लें
मतलब से ही चलता अब तो 
घर परिवार,


कोई किसी का नहीं है यहां पर
ईश्वर का नाम मतलब से लेते,
जहां पर ,काम बन जाने पर 
मालिक को भुला हैं देते जब तक 
मतलब होता तब तक ही हैं रोते 
मतलब से ही यारी औ,मतलब का 
ही कारोबार,


संतोषी -कानपुर


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image