सोनभद्र

 सोनवा चिरैय्या  कबो कहि जात हिन्दुस्तान, 
मुल लागल हमहूँ का सच्चै कहि जाता था।।
यूपी म्है सोनभद्र बाटै इक जिला जौन, 
सोन नदी तट जँह बाल हरषाता था ।।
 वहीं पै पहाडी़ जौन प्रकृति मा खूबसूरत, 
शिव नाम कही जात सोना ना देखाता था।।
भाखै कवि चंचल सुनौ इक अजुग्य बात,
नाहक ही सोनभद्र नाही ही कहाता था।।1।।
 हिन्द केरे खोजी दल खोजि रहे रातौ दिन,
मुला अन्दाज वनकै रहि रहि भरमाता था।।
 आजु मैने सुना जौन बतावैं पत्रकार बन्धु,
देखि देखि चित्र जौन मन ना अघाता था।।               सोनवै कै खान छिपी छिपी है अथाह जौन, 
सोने कै चिरैय्या हिन्द झूठै ना कहाता था।।                 भाखै कवि चंचल वाही खोलि दीनो भोलेनाथ, 
हिन्द कै गरीबी कैसै ईश देखि जाता था।।2।।


आशुकवि रमेश कुमार द्विवेदी, चंचल


ओमनगर, सुलतानपुर, यूपी।।             9125519009 ।।


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
बाराबंकी के ग्राम खेवली नरसिंह बाबा मंदिर 15 विशाल मां भगवती जागरण बड़ी धूमधाम से मनाया गया
Image
सफेद दूब-
Image