शिक्षक राजेश कुमार सिंह ने एक और उपलब्धि अपने नाम अर्जित की

 



कोरोना महामारी और देशव्यापी लॉकडाउन के बीच अपनी नवाचार व रचनात्मक कार्यों से खुद को वयस्त रखने वाले सारण जिले के एक युवा व अच्छे शिक्षक श्री राजेश कुमार सिंह ने एक और उपलब्धि अपने नाम अर्जित की है. निराश के इस दौर में इस युवा लाइब्रेरियन ने कोरोना महामारी पर एक चित्र पत्रिका का संयोजन किया है जो युवा पीढ़ी के लिए एक आर्काईव की तरह है.. इस पत्रिका की खास बात यह है की इसमें 250 से ज्यादा कोरोना महामारी की खबरों से जुड़ी देश दुनिया की तस्वीरों का करीने से संकलन किया गया है जो इस आपदा के दौरान मानव जीवन व समाज में आए व्यापक बदलावों को दर्शाती हैं. 
इसमें राजनीति, समाज, व्यापार, धर्म, क़ृषि एवं शहरी जीवन को सहेजने का प्रयास किया गया है. एकमा हाई स्कूल में कार्यरत श्री राजेश कुमार सिंह ने बताया कि इतिहास में रूचि रखने वाले पाठकों, महामारीयों पर शोध करने वाले शोधार्थीयों एवं किसी भी सामान्य जिज्ञासु पाठक के लिए उनका यह संकलन बेहद दिलचस्प हो सकता है. साथ ही उन्होंने यह भी रेखांकित किया कि सूबे के माध्यमिक कक्षाओ में आपदा प्रबंधन विषय को पढ़ाते समय भी छात्रों को रेफरेंस देने के लिए एक उत्तम स्रोत कि तरह हो सकता है. 
आपने पहले भी अपनी उलेखनीय रचनात्मक कार्यों से समाज में अलग मिसाल कायम कि है, आपके अलग अलग विषयो पर ढेर सारे संकलन आज भी छात्रों व पाठको के लिए एक स्रोत कि तरह हैं.


आपने अपनी रचनाधर्मिता व शून्य नवाचार से समाज को एवं विशेष कर शिक्षा क्षेत्र को हमेशा कुछ नया देने का प्रयास किया है. इसी सिलसिले में आपने भारत के तीन पूर्व महामहिम राष्ट्रपतियों डॉ कलाम, प्रतिभा पाटिल, एवं प्रणव मुखर्जी का शपथ से सेवानिवृत तक के कार्यकाल का एक अनूठा चित्र पत्रिका का संकलन भी किया है जो छात्रों के बीच काफ़ी लोकप्रिय हुआ. 
                    इतना ही नहीं आपने बिहार की बाढ़ जो हर साल तबाही का मंजर पेश करती है उस पर भी काम किया है. पिछले 25 सालों से आपने कई अलग अलग विषयो पर चाहे वह खेल हो, ओलम्पिक का इतिहास हो, अन्ना आंदोलन हो, बिहार का सोनपुर पशु मेला हो या कला संस्कृति का दर्शन करना हो आपके पास हर विषय का दुर्लभ संग्रह मौजूद है. 
    आपके काम से स्कूली छात्रों को काफ़ी प्रेरणा मिलती है और उनके अंदर भी पढ़ाई के अलावा कुछ अलग करने की चाह पैदा होती है. 
** सिक्कों का भी अच्छा संकलन है आपके पास ****.....  सिक्के इतिहास को जानने का सबसे बेहतरीन स्रोत माना जाता है एक नागरिक के तौर पर आपने सिक्कों का भी एक अच्छा संकलन तैयार किया है, करीब 100 से ज्यादा दुर्लभ सिक्कों का संग्रह आपके पास है जो इतिहास के अलग अलग दौर की जानकारी देते हैं.


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image