शहीदों को नमन


बाहरी दुश्मन से लड़ने को,
है सीमा पर  सैनिक काफी।
लेकिन देश के भीतरी दुश्मन
पाएंगे कब तक माफी ?


कुछ बकवासी उन्मादी जो
बात कर रहे दुश्मन की।
उन पर न कार्रवाई कोई,
क्यों नीति है अपनेपन की ?


ले रहे पक्ष,जो दुश्मन का,
उनको भी दुश्मन माना जाए।
देश के भीतर पल रहे ऐसे,
दुश्मनों को पहचाना जाए।।


इतना कड़ा दंड दो इनको,
जो देखें कांपे थर थर।
भीतरघाती सुधर जाएं,
हो इनको शासन का डर।।


शत शत नमन शहीदों  को
जो सीमा हो गये बलिदान।
जयहिंद, वंदे मातरम् कहता,
नमन कर रहा हिंदुस्तान।।
 * डॉ.अनिल शर्मा 'अनिल'
धामपुर, उत्तर प्रदेश


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
भोजपुरी भाषा अउर साहित्य के मनीषि बिमलेन्दु पाण्डेय जी के जन्मदिन के बहुते बधाई अउर शुभकामना
Image