रहे गुलजार


मिले सुखी संसार,रहे इतना प्यार।


दुख कभी ना  झाँके आपके द्वार।


जीवन की बगिया गम गम गमके 
रात कटे चैन ,हर दिन रहे गुलजार।


दोनों की बाँहे उठे देने को सौगात
कभी ना कम हो एक दूजे से प्यार।


बंधी रहे मेरे आशाओं की पुरानी डोर
स्नेह से भरा आँगन सदा रहे गुलजार


रह ना पाये कभी अकेला कोई भी
इस जीवन में,बना रहे आपस में प्यार।


करत वंदना गीत,ये भोले भंडारी
सदा सुख चैन मिले,दुआ करूँ बारंबार।


    ✍️ गणपति सिंह गीत
            छपरा बिहार


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image