पुरुषार्थ

व्यर्थ   न    होता   पुरुषार्थ  कभी,
औ    न    कभी  होती    है    हार,
पुरुषार्थी     जीवन  में   है     सदा,
पाते        हैं         फल          चार,
पाते        हैं        फल           चार,
हैं   धर्म  -  अर्थ    - काम  -  मोक्ष,
कहते     'कमलाकर' हैं   जीवन में,
यही पुरुषार्थ हैं, प्रत्यक्ष या परोक्ष।।
    
कवि कमलाकर त्रिपाठी.


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image