पकड़ इंसाफ की डगर ही लेते हैं

 


चलो आज हम फैसला कर ही लेते हैं,
मोहब्बत अपने सीनों में भर ही लेते हैं।


बनेंगे असहायों की लाठी इस संसार में,
दो कदम उनके साथ हम धर ही लेते हैं।


उठाएंगे मजलूमों की हकों की आवाज,
सुनो! पकड़ इंसाफ की डगर ही लेते हैं।


कब तक अन्याय सहकर सिर झुकायेंगे,
गुनाहगार नहीं हैं, उठा नजर ही लेते हैं।


पीढ़ी दर पीढ़ी वो नेता, हम सेवक रहें,
बदलाव के लिए निकाल डर ही लेते हैं।


आओ भरें हुंकार, काफिला बन जाएगा,
"विकास" ऐसी जिंदगी से मर ही लेते हैं।


©® विकास शर्मा


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image