मित्र


"मित्र,,,
अधिकार है तुम्हें
अच्छाई,मेरी बुराई
सब भूल जाने का
प्रेम के वश 
हो जाने का
जिद करने का
और
उलाहना देने का
मित्र,,,,
मित्रता में
अपना क्या ??
बेगाना क्या??
बस खुश रह लो
मित्र को भी सँग
खुश रहने दो,,,,
मित्र,,
मित्रता में
न तुम बड़े हो
न मैं ही छोटा हूँ
बड़े-छोटे का
भेद मिटाकर
सँग अपने
स्वीकार तो कर लो,,
मित्र,,
मित्रता की आड़ में
कोई गलत न कर जाए
कहने को सब
मित्र हैं अपने
भरम न मेरा
कहीं गुजर जाय,,
मित्र,,
मित्रता की
लाज बचा रखना
कभी जो हो 
गलती उसीसे से
प्यार से
गले लगा लेना
मित्र वही जो
सुख में दुःख में
अपना बनकर 
आता है
और न जाने
गले लगाकर
सब दुःख को तो
भुलवाता है,,,,,
*********
©डॉ मधुबाला सिन्हा
मोतिहारी


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image