मिलने आऊँगी

 


 


 


 


"


एक दिवस मिलने आऊँगी
अपने द्वार खड़े तुम मिलना


1)मुझे पता है तुमने अपने
पलक पाँवड़े बिछा रखे हैं
मेरे सँग जीने के सपने
अंतर्मन में सजा रखे हैं
अपनी आँखों में ऐसा हीं
लेकर प्यार खड़े तुम मिलना
एक दिवस मिलने आऊँगी
अपने द्वार खड़े तुम मिलना


2)सारी उम्र तुम्हारी होकर
रही तुम्हारी और   रहूँगी
तुम सागर हो मैं नदिया हूँ
धार तुम्हारी  दिशा बहूँगी
जब भी मिलन कामना भेजूँ
कर स्वीकार खड़े तुम मिलना
एक दिवस मिलने आऊँगी
अपने द्वार खड़े तुम मिलना


एक दिवस मिलने आऊँगी
अपने द्वार खड़े तुम मिलना।"
           💐💐
डॉ मधुबाला सिन्हा
मोतिहारी,पूर्वी चम्पारण
'विश्व साहित्य सेवा संस्थान,अंतरराष्ट्रीय सचिव'
9470235816


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
ठाकुर  की रखैल
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
पीहू को जन्मदिन की हार्दिक शुभकामनाएं
Image