क्षितिज के उस पार •••(कविता)

 



क्षितिज के उस पार 
इक गाँव बसा है
जहाँ उषा की पहली किरण के साथ ही
चिड़ियों का कलरव 
और मंदिर की घण्टी बजती है
जहाँ बच्चे आर्यभट्ट और कलाम 
का अनुकरण करते हैं 
जहाँ इसरो है नासा है
घर घर सोलर और लैपी की भी भाषा है
सरहदों से परे है ये गाँव
पंक्षी और पवन के सरीखे 
लोग स्वच्छंद हैं
कलियाँ खिलखिलाती हैं
तितलियाँ उड़ती हैं 
अपनी सुगन्ध से बादल तक को महकाती हैं
यहाँ उनको.....नोचने की प्रथा नहीं हैं
यहाँ दूल्हा बिकता भी नहीं है 
स्त्री के विद्योत्तमा ,अपाला , गार्गी से हक हैं 
यहाँ सृष्टि के सब पोषक हैं
मिट्टी के फ्रिज और जूट के तोषक हैं 
हर हाँथ में दिखती पुस्तक है
सरकारी और प्राइवेट का नहीं कोई चक्कर है
विद्या का मोल नहीं वो अनमोल है 
इसलिए आरक्षण का नहीं कोई रोल है
काश होता इक ऐसा गाँव
क्षितिज के इस पार भी ...
काश..!!
अर्पना मिश्रा 
उन्नाव (उ. प्र.)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image