ख्वाब ढूँढ़ते है

समय की रेत के
मरु पर हम किसी 
गुजरे हुए मुसाफिर 
के पैरों के निशान 
ढूँढते है ||


बहते इक तूफान के बाद 
बहार की कोई मंजिल 
ढूंढ़ते है, 
गुजर गया जो सैलाब 
उसमे यादों के पैगाम 
ढूँढ़ते है ||


डूबती सी कश्तियों पे 
आशा के चिराग ढूँढ़ते है 
न चाह जिसे कभी वो 
ख्वाब ढूँढ़ते है ||


खामोश हवाओं में 
किसी अपने के आने 
की आहट खोजते है 
फिर कुछ पल रुक कर 
सोचते है ||


रूकना है सही नहीं 
फिर ना जाने कौन सी 
मंजिल हम ढूँढ़ते है 
हाँ मंजिल हम ढूँढ़ते है ||


मुकेश' लाडो 'शर्मा


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image