कालचक्र


उस मां के दर्द को 
क्या पहचाने गा रे तू इंसान 
जो तूने उस भूखी मां को 
फल में बम मिलाकर खिलाया है
उसके मुंह को जख्मी बनाया है
तेरा तो वजूद ही पत्थर का बन गया है
उस मां के दर्द को ना समझ कर
तूने अपने छिपे शैतान को
फिर से जगाया है
उस मां की भूख का 
तूने फायदा उठाया है
फायदा उठा कर तूने 
उसको और उसके बच्चे को 
कफ़न उड़ाया है
उस जानवर ने तुझ पर 
भरोसा करके अपने अंदर के
इंसान को दिखाया है
जल जाने के बाद भी 
उसने किसी को 
नुक्सान ना पहुचाया है 
तीन दिन तक भूखे पेट में
तड़पकर आंसू बहाया है
खुद को और अपने बच्चे को
स्वर्गवास कराया है
उस भूखी मां को मारकर 
तूने इंसान नाम को ओर
कर्ज में डुबाया है
हे इंसान तेरी ही बुराई ने 
कभी कोरोना तो 
कभी तूफान को बुलाया है
अभी भी मौका है 
सुधर जा हे इंसान 
नहीं तो ये कालचक्र
फिर से तेरे सिर पर मंडरायेगा।


राघव मिगलानी
(फार्मेसी विधार्थी)
सहारनपुर (उत्तर प्रदेश)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
साहित्यिक परिचय : नीलम राकेश
Image
आपका जन्म किस गण में हुआ है और आपके पास कौनसी शक्तियां मौजूद हैं
Image
परिणय दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Image
गाई के गोवरे महादेव अंगना।लिपाई गजमोती आहो महादेव चौंका पुराई .....
Image