जय मां गंगा पर  मुक्तक

 



मोक्षदायिनी पापा विमोचीनी गंगा मेरी माता है।
विष्णु चरण से निकल के आई महिमा सब नर गाता है।
भागी रथी के घोर तपस्या देख के मां प्रसन्न हुई।
जो नर मां की शरण में जाए पार उतर वो जाता है।


2))


सागर के पुत्रों को तारण गंगा धारा पर आई।
अतुल वेग से बहते बहते शिव के जटा समाई।
चांदी जैसी चंचल लहरे उज्जवल रूप सजा कर
गो मुख गंगा धाम परम है अमृत सम कहलाई।


** मणि बेन द्विवेदी
वाराणसी (उत्तर प्रदेश)


Popular posts
अस्त ग्रह बुरा नहीं और वक्री ग्रह उल्टा नहीं : ज्योतिष में वक्री व अस्त ग्रहों के प्रभाव को समझें
Image
जीवीआईसी खुटहन के पूर्व प्रबंधक सह पूर्व जिला परिषद सदस्य का निधन
Image
प्रेरक प्रसंग : मानवता का गुण
Image
साहित्यिक परिचय : श्याम कुँवर भारती
Image
ठाकुर  की रखैल
Image